खेती से जुड़ें इन व्यवसायों से बढ़ा सकते है किसान भाई अपनी आय | जाने 10 खेती से जुड़ें व्यवसाय

खेती से जुड़ें इन व्यवसायों से बढ़ा सकते है किसान आपनी आय

हम ग्रामीण या अर्ध-शहरी क्षेत्रों में कृषि-व्यवसाय स्थापित कर सकते हैं। चूंकि इन परियोजनाओं की लागत अधिक नहीं है, आप ऋण या स्वयं की पूंजी का उपयोग करके धन जुटा सकते हैं। आज, भारत में बढ़ती बेरोजगारी युवाओं को व्यवसाय शुरू करने के लिए मजबूर कर रही है। इसी तरह, चूंकि हमारे पास पर्याप्त जानकारी नहीं है कि कौन सा व्यवसाय करना है, हम ऐसी जानकारी ला रहे हैं जो आपको व्यवसाय करने में मार्गदर्शन करेगी।

खेती से ही कोई किसान अपना जीवन यापन कर सकता है, लेकिन आज की महंगाई और तकनीक को देखते हुए उसे कृषि के लिए खेती से जुड़ें व्यवसाय शुरू करना होगा। प्रचुर मात्रा में पानी कृषि से आय की गारंटी दे सकता है। लेकिन कुछ क्षेत्रों में जहां कृषि केवल वर्षा पर निर्भर है, खेती से जुड़ें व्यवसाय बहुत लाभदायक होगा।

खेती से जुड़ें व्यवसाय
खेती से जुड़ें व्यवसाय

 

जाने 10 खेती से जुड़ें व्यवसाय

खेती से जुड़ें व्यवसाय की सूची नीचे दी गई है। यह लेख ऐसे व्यवसायों के बारे में केवल बुनियादी जानकारी प्रदान करता है।

कुक्कुट पालन

आप इस व्यवसाय को कम लागत और कम जगह के साथ कर सकते हैं। आप किस नस्ल की मुर्गी पालने जा रहे हैं, इसके आधार पर आपका व्यवसाय तुलनीय होगा। पोल्ट्री व्यवसाय आज फल-फूल रहा है। ब्रायलर, इंग्लिश, नेटिव, डी.पी. आदि आप ऐसी कई किस्मों को कम या ज्यादा संभाल सकते हैं। आपको बस इतना करना है कि समय-समय पर टीका लगवाएं। इस बिजनेस से आप कम मेहनत में ज्यादा कमाई कर सकते हैं।

बकरी पालन 

जैसे-जैसे बकरियों का प्रजनन काल नजदीक आ रहा है, आप साल भर बकरियों की संख्या बढ़ा सकते हैं। यदि आप बकरी पालने के लिए शेड बनाते हैं, तो यह एक आकर्षक व्यवसाय है। केवल बकरी के चारे की व्यवस्था करनी है।

डेयरी व्यवसाय 

चूंकि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रचुर मात्रा में चारा है, इसलिए आप डेयरी उत्पादन के लिए गाय, भैंस और बकरियों को पाल सकते हैं। अब दुग्ध प्रसंस्करण और दुग्ध उत्पादन उद्योग के विकास के साथ दूध की मांग भी बढ़ रही है। यदि आपके पास शेड या शेड है तो आप इस व्यवसाय को शुरू कर सकते हैं।

मशरूम की खेती 

बड़े होटलों में मशरूम मंगाए जाते हैं। उनकी डिश बहुत महंगी है। इसमें उच्च पोषण मूल्य और उच्च स्तर के विटामिन होते हैं। आप इस व्यवसाय को बंद शेड में शुरू कर सकते हैं क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में पौष्टिक वातावरण है। इस धंधे में एक ही शर्त है कि शेड में तापमान को नियंत्रित किया जाए।

रेशम की खेती 

भारत और चीन रेशम के दो प्रमुख उत्पादक हैं। रेशम की बढ़ती मांग रेशम उद्योग के लिए वास्तविक प्रोत्साहन है। आप कम उपज वाली मिट्टी में शहतूत लगाकर इस उद्योग को विकसित कर सकते हैं क्योंकि आपको रेशम के कच्चे माल से लेकर पूरी प्रक्रिया तक के अच्छे दाम मिलते हैं।

मधुमक्खी पालन 

शहद का उत्पादन जो कई बीमारियों को ठीक करता है और मानव शरीर के लिए स्वस्थ है, निश्चित रूप से आपकी आय में वृद्धि करेगा। आप खुद भी शहद बेच सकते हैं या सही समय पर ज्यादा शहद बेच सकते हैं। यदि कोई बंजर भूमि है तो आप लकड़ी के बक्से बनाकर इस खेती से जुड़ें व्यवसाय को बड़े पैमाने पर शुरू कर सकते हैं।

फिशिंग 

अगर आपके पास छोटा तालाब या कुआं है तो आप मछली के अंडे से चूजे लाकर इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं. यदि आप जल शोधन और मछली के उचित आहार की योजना बनाते हैं, तो आप कम समय में अच्छी उपज प्राप्त कर सकते हैं।

केंचुआ खाद 

एक चौकोर या गोलाकार टैंक बनाएं और उसमें गीला कचरा, सब्जियां, गोबर बार-बार रखें और उसमें केंचुओं को छोड़ दें। वर्मीकम्पोस्ट बहुत ही पौष्टिक होता है और इसका उपयोग कृषि के लिए किया जाता है। आप विभिन्न उचित कीमतों पर वर्मीकम्पोस्ट बेच सकते हैं।

औषधीय पौधों का रोपण 

आप नर्सरी की तरह उपयुक्त आवरण बनाकर भूमि के एक छोटे से भूखंड में भी सभी जड़ी-बूटियाँ लगा सकते हैं। औषधीय पौधों का उपयोग शहरी क्षेत्रों में दवा प्रसंस्करण उद्योग में, विभिन्न सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। इसकी मांग दिनों दिन बढ़ती जा रही है।

बाग़बानी

यदि आपके पास उचित जल योजना और उपलब्धता है, तो आप एक बगीचा बना सकते हैं। इस तरह की योजना बनाकर आप अलग-अलग समय में आने वाली सब्जियां और फल उगा सकते हैं। आप स्थानीय या बाजार मूल्य पर भी बेच सकते हैं। यह व्यवसाय एक नियमित और आकर्षक व्यवसाय है।

आप केंद्र सरकार या फिर अपने राज्य सरकार के अनुदान से इस प्रकार का खेती से जुड़ें व्यवसाय शुरू कर सकते हैं और साथ ही पहिली बार यदि आप यह व्यवसाय शुरू करना चाहते है तो आप इन सभी व्यवसायों को बहुत छोटे पैमाने पर शुरू कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- वर्मीकम्पोस्ट के फायदे | केंचुआ खाद के फायदे

Leave a Comment