निंबोली का अर्क के 8 ऐसे लाभ जो हर किसान भाई को जानने चाहिए

नमस्कार किसान भाइयों, इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम नीम का अर्क ( निंबोली का अर्क ) बनाने की विधि के बारे में जानेंगे। नीम एक बहुत ही मूल्यवान औषधीय पौधा है। इसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा के साथ-साथ कृषि में भी प्राचीन काल से किया जाता रहा है। नीम के पत्ते, तना, छाल, पत्ते, फूल, नीम का अर्क सभी उपयोगी होते हैं। नीम का पेड़ दीर्घायु होता है। 

निंबोली का अर्क
किसान भाई जानें – निंबोली का अर्क के क्या फायदे हैं?

 

निंबोली का अर्क के क्या फायदे हैं?

नीम का अर्क उन बीजों से निकाला गया अमृत है जिनमें नीम के बीज होते हैं। पत्थरों को अलग किया जा सकता है और पूरे वर्ष एक सुरक्षित स्थान पर संग्रहित किया जा सकता है। और हम इसे संग्रहित नीम का उपयोग नीम का अर्क बनाने के साथ-साथ वर्ष भर आवश्यकता पड़ने पर नीम का पेस्ट बनाने के लिए भी कर सकते हैं। 

निम् के पेड़ में पाए जानेवाला अझाडीरेक्टीन एक कीटनाशक है जो बीज और पत्तियों में बड़ी मात्रा में पाया जाता है। इसलिए नीम का बीज याने निंबोली कृषि में बहुत महत्वपूर्ण है। निंबोली का उपयोग कीटनाशक बनाने में भी किया जाता है। निंबोली के अर्क में मौजूद अझाडीरेक्टीन का उपयोग  फसलों में लगने वाले कीट नेमाटोड वायरस और कवक को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। 

निंबोली का अर्क बनाने के लिए सामग्री

  • नीम के पत्तों एवं बीज का अर्क (पांच-सात) किलो 
  • अच्छा और साफ पानी 100 लीटर 
  • कपड़े धोने का पाउडर कम से कम एक सौ ग्राम 
  • और फिल्टर कपड़ा

आदि। नीम का अर्क (निंबोली अर्क) बनाने के लिए यह सामग्री आवश्यक है।

निंबोली का अर्क कैसे तैयार करें? 

नीचे हम निंबोली से अर्क बनाने की कुछ अलग-अलग विधियों को देखेंगे। 

विधि 1) – सबसे पहले नीम के बीज याने निंबोली को जमा कर उसके छाल को हटा दें और कुछ घंटें धूप में सुखाएं। धुप में अच्छे से सूखने के बाद लगभग 50 ग्राम बीज लें और उन्हें बारीक पीस लें (भले ही यह पाउडर मिक्सर से किया गया हो) और उन्हें एक कपड़े में लपेटकर कपड़े को एक लीटर पानी में रात भर भिगो दें।

विधि 2) – दो किलो निंबोली को बारीक टुकड़ों में बाँट लें। 15 लीटर पानी डालकर इस मिश्रण को रात भर के लिए रख दें अगले दिन इसे कपड़े से छानकर स्प्रे करें।

कब छिड़काव करें? 

निंबोली के अर्क का छिड़काव आमतौर पर शाम को यानी 4 बजे के बाद किया जाता है।

निंबोली अर्क के क्या फायदे हैं? 

  • निंबोली के अर्क का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे बनाने में बहुत कम खर्च आता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसे बनाने के लिए जरूरी चीजें आपके घर में आसानी से मिल जाती हैं।
  • यह पूरी तरह से प्राकृतिक है और इससे कोई प्रदूषण नहीं होता है। 
  • निंबोली का अर्क बनाना और संभालना बहुत आसान है।
  • हालांकि रिलीज कारक कीटों को रोकता है या नियंत्रित करता है, यह कुछ कीटों के लिए बहुत हानिकारक नहीं है। 

निंबोली अर्क का कीड़ों पर क्या प्रभाव पड़ता है? 

  • नीम के अर्क को फसल की पत्तियों पर छिड़कने से फसल की पत्तियां कड़वी हो जाती हैं और कीड़े खाने से बच जाते हैं और वे भूख से मर जाते हैं।
  • नीम के अर्क की कड़वी गंध के कारण मादा कीट पत्तियों पर अंडे नहीं देती है, इसलिए वे अगली पीढ़ी का उत्पादन नहीं करती हैं।
  • निंबोली के अर्क का छिड़काव करके कीट विकर्षक लगाया जा सकता है।
  • फसलों की तीखी गंध कीटों को पेड़ों पर बसने से रोकती है। 

तो, किसान मित्रों, आप ऊपर बताए गए तरीके से घर पर निंबोली का अर्क बनाकर अपनी फसल का प्रबंधन कर सकते हैं। अगर आपको कोई समस्या है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- मशरूम की खेती से जुड़ी जानकारी – किसानों के लिए फायदेमंद साबित होगी मशरूम खेती

Leave a Comment