हरी सब्जियां सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

हरी सब्जियां सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

हरी सब्जियां आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। लेकिन जानकारी के अभाव में आप इनका सेवन नहीं करते हैं। आइए जानते हैं यह कौन सी हरी सब्जियां हैं।

हरी सब्जियों में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स होते हैं। इन हरी सब्जियों का सेवन अगर आप एक के बाद एक दिन छोड़कर भी करेंगे। तो यह आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होगा। क्योंकि हरी सब्जियां अपने आप में अलग महत्व रखती है। आइए जानते हैं कौन सी सब्जी से आपको क्या फायदा मिलेगा।

हरी सब्जियां
हरी सब्जियां

 

पालक

पालक हरी पत्तेदार सब्जियों में सबसे महत्वपूर्ण सब्जी है। इसका सेवन करने से आपको हड्डियों और बालों से संबंधित समस्याओं से निजात मिलती है। इसका सेवन करने से आपका शरीर स्वस्थ रहता है। पाचन तंत्र मजबूत होता है। क्योंकि इससे आपको आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम पर्याप्त मात्रा में मिलता है।

अरबी

अरबी के पत्तों की सब्जी आपके शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है। अगर इसका रोजाना सेवन करें, तो मोतियाबिंद जैसी संभावना कम हो जाती है। क्योंकि इसमें विटामिन सी अच्छी मात्रा में होता है और यह वाइट ब्लड सेल्स का निर्माण करता है। इसमें बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने की क्षमता होती है।

सहजन

यह खाने में बहुत स्वादिष्ट लगती है। इसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन, प्रोटीन और अमीनो एसिड होता है। इसका सेवन करने से हृदय रोग, स्वसन रोग और पाचन जैसी समस्याओं से निजात मिलती है।

मेथी

मेथी का उपयोग घर में सब्जी के साथ ही दाल में भी मिलाकर किया जाता है। कई जगह इस के पराठे भी बनाए जाते हैं। यह लो कैलोरी वाली होती है। यह कई प्रकार की बीमारियों से छुटकारा दिलाती है।

बथुआ

बथुआ का सेवन पालक की तरह ही कई जगह काफी मात्रा में किया जाता है। सर्दी के मौसम में इसक परांठे सब्जी और रायता तक बनाया जाता है। यह लोगों को बहुत पसंद आता है। इसमें पोटेशियम, फॉस्फोरस, जिंक, कैल्शियम आदि तत्व होते हैं। यह शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

चौलाई

चौलाई की सब्जी का नाम बहुत कम लोगों ने सुना होगा। यह हिमालय की तलहटी और दक्षिण भारत के तटीय क्षेत्रों में पाई जाती है। इसमें कैल्शियम, सोडियम, विटामिन ए, ई , सी ओर फोलिक एसिड पाया जाता है। इसलिए इसका सेवन आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

मूली

मूली भूख बढ़ाने के साथ पाचन तंत्र को भी ठीक रखती है। कैल्शियम, आयोडीन, मैग्निशियम, फास्फोरस और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व भी खूब होते हैं। गुर्दे से जुड़े विकारों एवं मूत्र रोगों में मूली खाने की सलाह दी जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार नींद न आने, हर समय थकान महसूस करने, गले में दर्द, कब्ज, दांतों के पीलेपन और मुंह की दुर्गंध जैसी समस्याओं में भी मूली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

लौकी

लौकी पाचन क्रिया को ठीक रखता है. भूख न लगने व लिवर में होने वाली समस्या लौकी खाने से दूर होती है. इसके नियमित सेवन से खून में आयरन बढ़ता है और रक्त साफ होता है. इसका सेवन हृदय रोग में फायदेमंद होता है.

करेला

करेले की तासीर ठंडी होती है. जिससे ये गर्मी के रोग दूर करता है. करेले को कड़वेपन के कारण ज्यादा लोग नापसंद करते है. लेकिन इसके तत्वों व एंटीआक्सीडेंट, विटामिन के कारण हमें निरोगी बनाए रखने में करेला सबसे ज्यादा मददगार साबित होता है. इसके सेवन से पेट साफ रहता है. इससे चहरे के दाग धब्बे, मुंहासे व त्वचा के रोगों में लाभ मिलता है. करेले में विटामिन बी काॅम्पलेक्स की भरपूर मात्रा होने से ये खून को साफ करता है. कोलेस्ट्रॉल को कम करता है.

चुकंदर

चुकंदर के नियमित सेवन से खून साफ होता है, इसके सेवन से खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है.ये एनीमिया दूर करता है. इसमें मौजूद एंटीआक्सीडेंट रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. चुकंदर के सेवन से ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण रहता है. गाल ब्लेडर और किडनी का संचालन अच्छे ढंग से करने में मदद करता है और पाचन क्रिया को दुरस्त करता है. इसका सेवन सलाद में नियमित रूप से किया जाता है.

शकरकंदी

शकरकंदी में आलू के मुकाबले 300 परसेंट कैलोरी कम होती है. यह हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है. इसे खाने से त्वचा में चमक आती है और चेहरे पर झूर्रियां नहीं पड़ती हैं. यह रेाग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है. यह शरीर को गर्म रखती है. इसमें मौजूद विटामिन सी से ब्रोन्क्राइटिस व फेफड़ों की समस्या में आराम मिलात है. शकरकंदी गठिया और आर्थराइटिस में फायदेमंद होती है. इसके सेवन से खून में शर्करा का स्तर नियंत्रित रहता है. इसलिए इसे डायबिटीज में भी खा सकते है. इसे सब्जी के अलावा भूनकर और उबालकर भी खा सकते है.

गाजर

गाजर में मौजूद बीटा कैरोटीन त्वचा को अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाता है. गाजर आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम होती है. गाजर को कच्चा चबाकर खाने से दांत और मसूडे़ मजबूत होते हैं. गाजर कैल्शियम और केरोटीन की प्रचुर मात्रा के कारण छोटे बच्चों के लिए फायदेमंद होती है. गाजर, चुकंदर और ककड़ी तीनों का रस समान मात्रा में मिलाकर एक-एक कप सुबह शाम पीने से पेशाब की रुकावट, जोड़ों का दर्द आदि में बहुत फायदा होता है.

यह भी पढ़ें :- सब्जियों की जैविक खेती 2022- समय की है मांग

Leave a Comment