जान लें  होलिका पूजन का क्या है शुभ -मुहूर्त 

हिंदू कैलेंडर के अनुसार होली के दिन रंगों के बिखरने से पहले होलिका दहन किया जाता है।

कहा जाता है कि यह प्रथा भक्त प्रह्लाद के समय से चली आ रही है। होली का यह पर्व हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है।

होली की यह पूजा हर जगह बहुत ही विधिपूर्वक की जाती है। आइए जानें इस साल होली के शुभ मुहूर्त के बारे में और इसकी सही तरीके से पूजा कैसे करें

होली दहन 2022 तिथि और शुभ मुहूर्त

– होली दहन पूर्णिमा तिथि - गुरुवार, 17 मार्च, 2022

होली दहन का शुभ क्षण - गुरुवार, 17 मार्च, 2022 रात 9.20 बजे से 10.31 बजे तक

होली दहन 2022 तिथि और शुभ मुहूर्त

–होली दहन अवधि - लगभग 1 घंटा 10 मिनट और होली दहन के बीच में आपके लिए फायदेमंद रहेगा

जहां होली जलाई जाती है, वहां से लकड़ी और गोबर एकत्र किया जाता है और शुभ मुहूर्त में होली जलाई जाती है और होली की परिक्रमा की जाती है।

प्राचीन काल से यह माना जाता रहा है कि होली के दिन होलिका दहन पूजा सहित घर में सभी समस्याएं होली में जल जाती हैं और घर में शांति आती है।

एक कथा के अनुसार इस दिन भगवान कृष्ण को राधा के साथ रंग  खेलने के लिए भी जाना जाता है। जिसे हमारे देश में रंगोत्सव या रंग पंचमी कहाँ जाता है।

यह थी हमारी होली पर विशेष प्रस्तुति 

इस होली के महत्व की अधिक जानकारी के लिए  निचे Read More पर क्लिक करें ...और होली के उपलक्ष्य पर विशेष जानकारी का लुफ्त उठायें।