जैविक खाद - जीवामृत  किसानों के लिए साबित हो रहा है वरदान 

जाने किसानों के लिए जीवामृत  कैसे  फायदेमंद साबित हो रहा है।

जीवामृत क्या है?

जीवामृत एक अत्यधिक प्रभावशाली जैविक खाद है। जिसे गोबर के साथ पानी मे कई और पदार्थ मिलाकर तैयार किया जाता है।

जीवामृत पौधों की प्रतिरक्षा क्षमता को बढ़ाता है जिससे पौधे स्वस्थ बने रहते हैं तथा फसल से बहुत ही अच्छी पैदावार मिलती है।

जीवामृत के प्रयोग से मिट्टी में जीवाणुओं की संख्या में काफी वृद्धि हो सकती है।इनकी संख्या बढ़ने से वायु में नाइट्रोजन के अवशोषण की दर बढ़ जाती है।

फसल को नाइट्रोजन और अन्य पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होते हैं।इसलिए, फसल का विकास जोरदार है। फसल उज्ज्वल, जीवंत और स्वस्थ दिखती है।

जीवामृत की मदद से  मिट्टी में कार्बनिक कार्बन की मात्रा बढ़ने से जल धारण क्षमता बढ़ जाती है क्योंकि खेत में केंचुओं की संख्या बढ़ जाती है।

 जीवामृत का एक फायदा यह भी है की इस में मौजूद पर्याप्त कार्बनिक पदार्थ मिट्टी में नमी बनाए रखते हैं।  जिस से कम बारिश होने पर भी पेड़ोंपर ज्यादा असर नही पड़ता।

जीवामृत का उपयोग करके खेत की सब्जियों और फलों की सर्वोत्तम प्रति प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा फलों और सब्जियों के स्वाद में भी सुधार होता है।

यह थे जीवामृत के कुछ फायदें। यदि आप जीवामृत बनाने के विधि को नही जानते तो Read More पर क्लिक करें और स्टेप बाय स्टेप जाने जीवामृत कैसे तैयार होता है।